Artificial Intelligence [ AI ] kya Hai?

what is Artificial Intelligence in Hindi
What is Artificial Intelligence in Hindi

किसी भी मशीन को जब कोई इंसान Command देता है तो वह मशीन तभी कार्य करती है। जैसा हम सभी जानते हैं कि कोई भी मशीन सोच नहीं सकती ना ही खुद कोई निर्णय ले सकती है ।

परन्तु Artificial Intelligence (AI) बिलकुल इसका उल्टा है, यहाँ मशीन को खुद से ही निर्णय लेना होता है। मशीन में खुद निर्णय लेने की इस क्षमता को ही Artificial Intelligence कहा जाता है।   

What is Artificial Intelligence in Hindi ?

Artificial Intelligence दो शब्दों से मिलकर बना है :- “Artificial” + “Intelligence”. अगर इसका अर्थ निकालें तो “Artificial का मतलब होता है इंसानों द्वारा बनाया गया और “Intelligence” का मतलब होता है सोचने एवं निर्णय लेने की क्षमता।

Artificial Intelligence के बारे में दुनिया को John McCarthy ने 1956 में Dartmouth Conference के दौरान  बताया।

यानि यहाँ से हमे पता चलता है की Artificial Intelligence कुछ ऐसा ही है जैसे की कोई Machine किसी इंसान की तरह बातों एवं Situation को समझे और उस पर अपनी प्रतिक्रिया दे।

Artificial Intelligence पूर्ण रूप से computer से जुड़ा हुआ है और जो invention इस field में किये जा रहे हैं वो सभी Computers में programming के माध्यम से किये जा रहे हैं। यानि कि हमारी इस पोस्ट से Computer Science के students की बहुत अतुलनीय मदद होने वाली है।  

Artificial Intelligence का उद्देश्य/लक्ष्य

Computer की calculation करने की पावर इंसान की calculation करने की पावर से इतनी ज्यादा है कि हम इस चीज़ का अंदाज़ा भी नहीं लगा सकते।

जितने समय में मनुष्य कोई छोटी सी calculation करता है इतने में कोई मशीन (कंप्यूटर) करोड़ों की गणना कर लेती है वो भी बेहद कम समय में और बिलकुल सही।

ऐसे में अगर मशीन में भी इंसान जितनी सोचने के क्षमता आ जाये तो कुछ ऐसा होगा जो कभी नहीं हुआ होगा क्योंकि जिस काम को करने के लिए आज 1 साल का समय लगता है, तब वही काम दिनों और घंटो में हुआ करेंगे। इससे दुनिया को आगे बढ़ने और उन्नति करने में बहुत सहायता मिलेगी। 

इसके आलावा कुछ Model ऐसे भी हैं जिनके ऊपर दुनिया की बड़ी बड़ी companies ने काम करना शुरू भी कर दिया है।

जैसे कि Expert System जो आपके हाव-भाव देख कर ही ये बता सकेगा की आपके दिमाग में क्या चल रहा है और आप System से जो भी निजी सवाल करोगे वो उसका जवाब तो देगा ही साथ ही साथ ये भी बताएगा की आपको ऐसी Condition में क्या करना चाहिए।

ठीक इसी प्रकार Developers इस चीज़ पर भी काम कर रहे हैं कि किस प्रकार से इंसान की तरह दिखने वाला, काम करने वाला, हाव-भाव व्यक्त करने वाली मशीन (रोबोट) बनाया जाए, जैसा की आज कल Movies में दिखाए जाते हैं।

आम भाषा में बात करें तो आज कल हर बड़ी companies ये expect कर रही हैं की AI की सारी की सारी क्षमताओं तक पहुँचा जाए और एक समय ऐसा आये जब मशीने बिना किसी instructions के खुदबखुद काम करें।  

Artificial Intelligence के प्रकार 

Artificial Intelligence की क्षमता को देखते हुए इसको दो भागों में विभाजित किया गया है ।

1. Weak

2. Strong 


1. Weak Artificial Intelligence 

जैसा की नाम से ही पता चल रहा है कि इसको छोटे-छोटे कामों के लिए function किया गया है जैसे कि Google Siri केवल हमारे “Ok Google” बोलते ही Activate हो जाती है और हमारे बोलने मात्र से ही Google रिजल्ट निकाल कर हमारे आगे रख देती है।

ये AI का ही कमाल है परन्तु इसकी functioning बहुत छोटे scale पर की गयी है यानि की ये एक Weak Artificial Intelligence का उदहारण है।

Weak AI में कमियाँ आने की गुंजायश होती है परन्तु उस product की company इस कमी को बहुत जल्द पकड़ लेती हैं और इसको जल्द से जल्द सही करके इसका update customer तक पहुँचा देती है।

2. Strong Artificial Intelligence 

क Strong AI में वो सब Inventions आते हैं जिनकी programming बहुत बड़े scale पर की गयी होती है। जैसे की इजराइल ने अपने देश की सीमा पर कुछ इस प्रकार के कैमरा लगाए हैं जो की आतंकी गतिविधियों पर नजर रखते हैं और यदि उनको कोई इंसान सीमा पर दिखाई देता है तो वो उसकी तस्वीर वहाँ के army headquarter पर पहुंचा देती है और उनको सूचित कर देती है कि सीमा पर कुछ हलचल दिखाई दे रही है। यह process कोई छोटा मोटा infrastructure नहीं है बल्कि बहुत ही गहराई से अध्यन करने के बाद बनाया गया एक model है जिसका पूरा फायदा वहाँ की सेना उठा रही है।

Strong Artificial Intelligence में किसी भी प्रकार की कोई भी कमी आने की कोई भी गुंजायश नहीं होती है क्योंकि छोटी सी भी कमी एक बहुत बड़ी दुर्घटना का कारण बन सकती है।
Machine Learning और Artificial Intelligence में अंतर 

Machine Learning को कई बार लोग Artificial Intelligence ही समझ बैठते हैं परन्तु ये दोनों field आपस में बहुत हद तक मेल खाते हैं पर जहाँ तक सवाल है की ये दोनों एक ही हैं क्या? ये बात बिलकुल गलत है । इन दोनों में जमीनी तौर पर बहुत सारे अंतर हैं।

सबसे पहला अंतर ये की Machine Learning में Computer बिना किसी programming के काम करता है और Artificial Intelligence पूरी तरह से programming पर ही निर्भर है।

अगर इनकी similarity की बात की जाये तो हम यह कह सकते हैं कि Machine Learning Artificial Intelligence का ही एक पार्ट है पर काम बिलकुल अलग हैं।

अगर आपको इन दोनों में अंतर को समझना और याद रखना है जिससे आप confuse ना हो तो आप ये बात याद रख सकते हैं कि Artificial Intelligence का काम data को environment से collect करना है और Machine learning का काम उसी डाटा को continuously recycle करते रहना है जिससे वो डाटा loops में चलता रहता है और जब उसी प्रकार का डाटा उसको दोबारा दिखाई देता है तो वो उसके लिए नया नहीं रहता। 

Artificial Intelligence का Future 

आजकल दुनिया की हर कंपनी चाहती है की वो कुछ Advance लेकर market में आए और वो ऐसा करने में कामयाब भी हो रहीं हैं, तो इस बात से स्पष्ट पता चलता है कि आने वाला समय पूरी तरह से  Intelligence Artificial का होने वाला है।

Artificial Intelligence science से जुड़ा हुआ अपने आप में एक बहुत बड़ा field है, जिसकी बस अभी शुरुआत ही हुई है और इसमें अभी बहुत कुछ होना बाकी है। या ऐसा कह लीजिये कि Artificial Intelligence में अभी 10 प्रतिशत ही काम हुआ है 90 प्रतिशत अभी बाकी है एवं जितनी तेज़ी से ये sector आगे बढ़ रहा है, बहुत जल्द ही ये ऐसे आविष्कार सामने लाएगा जो हमारे आस-पास का माहौल बदल कर रख देगा।

क्योंकि आज का समय Artificial Intelligence का है तो इसलिए AI की demands jobs में भी चरम सीमा पर हैं क्योंकि AI पर work भी बहुत ज्यादा है और इसके लिए work करने वालों की भी बहुत demand है। ऐसे में अगर कोई चाहे तो वो अपना करियर AI के field में थोड़ी सी मेहनत के बाद बना सकता है।

AI आने वाले समय में एक beyond field है तो आने वाला समय चरों ओर AI का ही होने वाला है। ऐसे में jobs तो लगभग हर एक sector में ही आएँगी क्योंकि हर एक कंपनी एक दूसरे को पीछे छोड़ने की होड़ में लगी हुई हैं।

Science में AI का field सबसे बड़ा इसलिए है क्योंकि हाल ही में “Eve” यह पता लगाने के लिए चर्चा में रहा था कि आम तौर पर हम जो Tooth Paste प्रयोग में लाते हैं, उसमे जो घटक (तत्व) पाए जाते हैं वो घटक या तत्व मलेरिया का इलाज करने में गुणकारी हो सकता है। यानि कि इस बात का पता AI ने लगाया है जो कि खुद इंसान के द्वारा ही बनाई गयी है।
वर्तमान में AI के उदाहरण 


1. Face Lock/Finger Print Lock  

Face Lock/Finger Print Lock AI का बहुत ही क्रांतिकारी कदम है। Face Lock की मदद से आप अपने mobile को बिना touch किए open कर सकते हैं जिसमे आपको कुछ नहीं करना है बस आपको अपने face को mobile की screen के सामने लाना है। और Finger Print Lock एक ऐसा feature है जो आजकल लगभग हर एक mobile में उपलब्ध हो ही रहा है। आप इन दोनों चीज़ों से ही AI की power का अंदाज़ा लगा सकते हैं। आप इससे बहुत जल्दी सहमत भी होंगे की Artificial Intelligence आपके आस पास के माहौल को बदल रहा है और एक समय ऐसा आएगा की AI युग ही बदलकर रख देगा।

2. Cyber सुरक्षा 

Cyber Crime एक ऐसी समस्या है जो बहुत लम्बे समय से चली आ रही है और hackers ने आज भी बहुत सारी private और government companies को परेशान किया हुआ है। Credit Card के साथ धोखा-धड़ी से पैसे निकाल लेने की बहुत सारी समस्याओं के बारे में तो आपने भी सुना होगा। बहुत सारी घटनाएँ तो ऐसी हुई हैं कि आपके bank खाते से पैसे कट जाते हैं और आपको पता ही नहीं चलता।

एक बार तो एक hacker इस काम के लिए सुर्ख़ियों में रहा क्योंकि उसने कई लाख खाता धारकों के बैंकों से 1-1 रूपया निकाल लिया जिससे इस बात पर किसी ने गौर नहीं किया क्योंकि अगर आपके खाते से 1 रूपया कटता है तो आप इस चीज़ को अनदेखा कर दोगे। उसने ऐसा कई बार अलग अलग लोगों के साथ किया और 1-1 रूपया कर कई लाख रुपये की राशि अर्जित कर ली। आखिरी में जब उस hacker के ही बैंक ने उस hacker का account trace किया तो पाया की यह एक hacker का ही काम है और उसको पकड़ लिया गया।

आज के समय में AI की सहायता से ऐसी गतिविधियों पर नजर रखी जा रही है और भविष्य में इस तरह के अपराधों में कमी आने का अनुमान लगाया जा सकता है।

3. Data Analyzer 

अगर आप You Tube, Instagram etc का प्रयोग करते हैं तो आपने एक चीज़ पर गौर किया होगा की जिस चीज़ को आप एक बार यहाँ पर सर्च करते हैं, ये site आपके सामने बार-बार उस search से related चीज़ों को ही लाता रहेगा। इसके पीछे ये logic work करता है कि जो चीज़ आपने search की है उस चीज़ में आपका interest तो होगा ही तो वो site आपको वो ही चीज़ परोसती रहेगी जब तक आप उसको open करके नहीं देख लेते हैं। इस चीज़ को उन sites की भाषा में You Tube Suggest और Instagram Suggest कुछ ऐसे denote किया जाता है। इस चीज़ के पीछे data analyzing छुपी हुई है। यहाँ पर Data Analyzer की सहायता से data को खंगाला जाता है और similar keywords को attach करके suggest किया जाता है। इस technique का प्रयोग आज कल बहुत सारी companies बडे scale पर कर रहीं हैं।

4. Auto Mobile

Google आजकल के दिनों में AI के माध्यम से एक नयी तकनीक इजात करने में लगा है जो कि भविष्य में    

transport और auto mobile sector में एक क्रांतिकारी परिवर्तन लाने वाला है। इस तकनीक में गूगल एक ऐसी कार की खोज में लगा है जो बिना ड्राइवर के चलेगी और उसको निर्देश देने तक की जरुरत नहीं पड़ेगी, वो खुदबखुद चला करेगी। इस कार का मुख्य feature बिना driver के कार को चलाना है, जो कि Google Map पर चला करेंगी। आज कल बहुत सारी companies ऐसी ही कार इजात करने की कोशिश में लगी हुई हैं।

5. Websites/Startups 

US में एक software engineer Filip Wang ने एक ऐसी website बनाई है जिसका use करके आप अनगिनत अलग-अलग प्रकार के चेहरे बना सकते हैं और वो भी जो इस दुनिया में exist ही नहीं करते। उस website का नाम “thispersondoesnotexist” है। कमाल की बात यह है कि आप इस website की मदद ऐसे चहरे बना सकते हैं जो बिलकुल इंसानी चेहरे जैसे ही दिखाई देंगे परन्तु वो चहरा इस दुनिया में ही नहीं है, है ना कमाल की बात। 

इस website के creator Filip Wang यह बताते हैं कि जो motherboard (computer का एक part) वो प्रयोग कर रहे थे वो किराये के server पर चलता था, जो हर दो second में एक चेहरा बना रहा था। इस खोज का प्रयोग केवल चेहरा बनाने तक ही सिमित नहीं रहा इसको इसके मालिक ने market में भी उतार दिया। क्योंकि इस प्रणाली को बाद में इस तरह से प्रयोग में लाया गया की इससे घरों के नक़्शे एवं अंदर के design भी तैयार किये जाने लगे।   

Artificial Intelligence के फायदे 

AI के इस्तेमाल से हम किसी भी काम के result यानि की output को accurate पा सकते हैं जो की एक इंसान के लिए लगभग ना के बराबर है। AI की मदद से मशीनों को मदद लेना आसान एवं तेज़ हो जाता है जिससे कि computer के algorithm काफी तेज़ काम करने लगते हैं जिससे समय की खपत कम होती है और जो काम हम कर रहें हैं वो भी जल्दी complete हो जाता है। 

AI की एक सबसे उम्दा बात यह है कि ये समय की खपत को कम करके प्रोडक्शन को बढ़ा देता है और अपनी पावर को utilize करके मशीनो से लगभग 24 घंटे तक कार्य करवा सकता है।  

AI की सहायता से हम मशीनो से आसानी से बात की जा सकती है इसका एक ताजा Apple company का product siri है। जिसको हम “Ok Google” बोलकर activate कर सकते हैं और कोई भी सवाल पूछ सकते हैं।   

आज कल बमों को निष्क्रिय करने में इंसानो के बजाये robots का प्रयोग किया जाने लगा है क्योंकि इस तरह के जोखिम भरे कामों में मनुष्य की जान जाने का खतरा होता है इसलिए robot का प्रयोग इसलिए बढ़ गया है क्योंकि यदि कोई दुर्घटना भी होती है तो जान की हानि होने का खतरा नहीं रहता है। 

AI का प्रयोग production companies तो कर ही रहीं हैं बल्कि medical sector में भी इसका प्रयोग बढ़-चढ़ कर किया जा रहा है। फिर चाहे वो Tooth Paste में मलेरिया जैसी बिमारियों को दूर करने जैसे घटकों का पता लगाना हो या फिर कैंसर के इलाज के लिए AI आधारित मॉडल। 

यदि कोई व्यक्ति किसी चीज़ का व्यवसाय करता है या फिर बहुत अधिक व्यस्त रहता है, तो उसके लिए Assistant Software तैयार किये गए हैं जो उसको समय-समय पर कामों को याद दिलाने का काम करते हैं। ऐसे में AI हमारे लिए बहुत काम आ रही है।    

Artificial Intelligence के नुकसान 

दिन प्रतिदिन Artificial Intelligence का प्रयोग दिन दोगुना और रात चौगुना तेज़ी से बढ़ता जा रहा है। हमारे आस-पास चरों और मशीनों का अम्बार लगा पड़ा है ऐसे में हम इन मशीनों के प्रयोग करने के आदि होते जा रहे हैं और हमारी जरूरतों को पूरा करने के लिए Companies मशीनों को और भी ज्यादा सुलभ और advance बनाती जा रही हैं। जिससे हम मनुष्य एक comfort zone में चला गया है और अब इस comfort zone से बाहर आ पाना बहुत मुश्किल दिखाई पड़ रहा है, जो मेरी इस बात से वाकिफ नहीं रखते वो खुद से एक सवाल पूछिए की आप अपने mobile  से कितने दिन दूर रह सकते हैं, अरे नहीं ये तो मैंने ज्यादा बोल दिया हम कुछ घंटे भी अपने mobile से दूर नहीं रह सकते। जो हमारे आने वाले भविष्य के लिए निश्चित तौर पर संकट का कारण बनने वाला है।

आज हमको advance ज़माने में रहने की आदत बनी हुई है और तो और हम यह चाहते हैं कि हमारे हाथ लगाए बिना ही मशीन हमारा काम कर दें, हम मशीनों पर ही सारा दरमोदार सौंप रहे हैं । असल में अब हमे इन सब चीज़ों की आदत सी हो गयी है और चाह कर भी हम खुद को मशीनों से दूर नहीं कर सकते।

Sophia robot के बारे में तो आप सब ने सुना ही होगा जो कि AI का एक बहुत ही अद्भुत उदाहरण है जिसको दुनिया जानती है, उसके अविष्कार ने सबको अचंभित कर दिया परन्तु जब एक बार एक interview में उससे ये पुछा गया की क्या आप इंसानो को कभी harm पहुँचा सकती हो तो उसने जवाब दिया था कि हाँ में इंसान प्रजाति को खत्म कर दूँगी। जरा सोचिए? चलो मान लिया कि वो केवल एक रोबोट थी और अगर वो किसी एक इंसान को भी नुकसान पहुचंती तो उसको कण्ट्रोल किया जा सकता था हालाँकि वो इतनी powerful  नहीं है और ना ही इतनी advance है की वो किसी को नुकसान पहुँचा सके, पर सच्चाई ये है कि जिस प्रकार से चारों और AI के माध्यम से मशीनों का अंधाधुंध निर्माण किया जा रहा है वो मनुष्य जाति को नुकसान पहुँचाने वाला है।

हम अपने आस-पास जो माहौल बनाते जा रहे हैं वो आने वाले समय में हमे और हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए बहुत ही दुख दाई होने वाला है। जिससे हमे सीख लेनी चाहिए और खुद पर इतना काबू रखना चाहिए की हम जब चाहे इन चीज़ों के प्रयोग को कम करने में हमे परेशानी ना हो।     

Conclusion 

Technology अभी अपने शुरूआती दौर में हैं परन्तु इसने अभी से ही हमारे आस-पास नतीजे दिखाने शुरू हो गए हैं। AI पर दुनिया के हर कोने में कहीं न कहीं अध्यन किये ही जा रहे हैं और इसमें लोगो का भारी मात्रा में निवेश और रुचि देखी जा रही है। चाहे इसमें कोई भी निर्माण हो जैसे की कोई computer game जो इंसानी दिमाग को कुछ ही समय में हरा सकता है, इस बात से ये पता चलता है की Artificial Intelligence में इतनी क्षमता हो सकती है कि वो इंसान को काफी पीछे छोड़ सकती है इसलिए यह कहा जा सकता है कि AI मनुष्य की उत्पत्ति का कारण बन सकती है।  

जैसा की हमने पढ़ा की इसके बहुत सारे फायदे भी हैं पर तमाम फायदों के बावजूद भी AI से हमे बहुत सारे खतरे हैं। AI की सहायता से ऐसे भारी हथियारों का विकास किया जा सकता है जो बहुत ही कम समय में दुनिया की एक बहुत बड़ी आबादी को ख़त्म कर सकता है। AI दुनिया की बहुत बड़ी आबादी का रोजगार भी छीन सकती है क्योंकि जब कोई मशीन हजार आदमियों के काम को अकेले कर सकती है तो कोई company या ठेकेदार उस काम को करने के लिए मजदूर या फिर labor को क्यों रखेगा और पैसे देगा। इससे किसी भी देश की अर्थ व्यवस्था को भी धक्का पहुँच सकता है। 

कुल मिलकर Artificial Intelligence kya hai हमारे लिए फायदेमंद भी है और नुक्सान दायक भी। हमे उम्मीद है की आपको यह Article पसंद आया होगा और आपको आपके सवालों के जवाब बखूबी मिले होंगे। यदि आपको हमारा कार्य अच्छा लगा है तो आप हमे comment के माध्यम से बता सकते हैं और इस information को अपने दोस्तों के साथ share भी कर सकते हैं।  

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here