दोस्तों, क्या आप भी import export ka business kaise kare इसके बारे में जानना चाहते है। अगर आप कम समय में ज्यादा profit कमाना चाहते है, तो आप import export का business कर सकते है।

दोस्तों, इस business से आपको अच्छा profit तो मिलेगा ही इसके साथ ही आपको कई देशों में घुमने और उन्हें जानने का मौका भी मिलेगा।

आज कही सारे लोग बेरोजगारी से गूंज रहे है। ऐसे समय में खुद का बिजनेस खोलना एक बहुत अच्छा कदम हो सकता है। इंपोर्ट एक्सपोर्ट यह हमारे देश और साथ ही कई देशों में होता है यह आप पर निर्भर करता है की आप कौन से स्तर पर इसे करना चाहते है।

आज हर जगह बेरोजगारी की धूम मची है। ऐसे समय आप अपना खुद का बिजनेस शुरू करके और लोगों को काम देकर एक बहुत अच्छा कदम उठा सकते है। Import-export का business कहीं सारे लोग करते है। यानी यह बिजनेस लंबे समय से चलता आ रहा है।

तो दोस्तों, अगर आप भी जानना चाहते है कि आयात निर्यात का व्यापार कैसे शुरू करे तो आप बिलकुल सही जगह पर आए है। यहां आप import-export business की सारी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। तो चलिए बिना समय गवाए शुरू करते है।

Import Export का बिजनेस क्या है?

दोस्तों import export का ये व्यापार स्थाई रूप से चलता है। इसके चलते बहुत लोगों की बेरोजगारी मिट सकती है। Import Export की बात की जाए तो Import यानी आयात का मतलब किसी वस्तु या सामान को बाहर से यहां लाना होता है।

Example के लिए आप अमेरिका से इंडिया में बड़े पैमाने पर कोई सामान ले रहे है तो उसे Import कहा जायेगा। और Export यानि निर्यात का आसान मतलब यह बनता है की हम किसी चीज को यहां से कही और भेज रहे है।

उदाहरण के लिए भारत से किसी चीज या सामान को अमेरिका में भेजना इसे Export कहते है। हर देश में इंपोर्ट और एक्सपोर्ट होता है, क्योंकि हर देश को किसी ना किसी चीज की जरुरत होती ही है। अगर हमारे देश में किसी चीज का ज्यादा उत्पादन होता है, तो हम वो चीज ऐसे देश में Export करते है जहा उस चीज का उत्पादन कम होता है।

Import Export ka business kaise kare

Import Export का बिजनेस दो देशों के बीच माल का आदान प्रदान करने से होता है। इस व्यवसाय में आप माल यहा से किसी और देश में भेजते है या किसी और देश से आया हुआ माल कहां प्राप्त करते है।

भारत देश का दुसरे देशों में बेचना और दुसरे देशों का माल यहा बेचना ये इंपोर्ट एक्सपोर्ट की मदद से होता है। यह काम कुछ लोगो की निगरानी में किया जाता है। भारत में, विदेश व्यापार की निगरानी के तहत ये सुविधा प्रदान की जाती है।

आपको हर व्यवसाय को शुरू करने के लिए कुछ कानूनी चीजों से गुजरना पड़ता है। लेकिन यह आपके व्यवसाय की सुरक्षा के लिए ही किया जाता है। दोस्तों इस business को शुरू करने से पहले आपको registration और लाइसेंस की जरूरत पड़ेगी। हम आपको नीचे विस्तार में बताएंगे की आप कैसे आसानी से लाइसेंस के लिए Apply कर सकते है।

Also Read:

दुबई में Business कैसे करें ? 2021

बिजनेस बढ़ाने का तरीका

Import Export का business करने के लिए Registration कैसे करे

दोस्तों, import export business in india करने के लिए सबसे पहले आपको अपने business का Registration करना होगा। आप अपने बिज़नस को Proprietorship, partnership, private limited company etc के अंतर्गत register करवा सकते है।

आपको इस व्यापार को करने के लिए सबसे पहले ट्रांसपोर्ट के अधीन register करना होगा। इंपोर्ट एक्सपोर्ट यह सिर्फ एक व्यक्ति का व्यापार नहीं होता बल्कि यह दो देशों का व्यापार होता है। registration करने के लिए यह स्टेप्स को फॉलो करे

Msme Registration :

अपने व्यवसाय का msme registration करना भारत में किये जाने वाले सभी व्यवसाय के लिए mandatory हो गया है। इसके अलावा उद्योग आधार की सहायता से registration करवाया जा सकता है।

इसकी सहायता लेकर आप सिर्फ 5 मिनट के अन्दर ऑनलाइन अपने व्यापार को भारत सरकार के अधीन register करा सकते है।

Shop Act registration :

दोस्तों, यदि आप किसी भी कॉरपोरेशन के जगह पर रहते है, और वह अपना बिजनेस स्टार्ट करना चाहते है तो सबसे पहले आपको शॉप एक्ट registration के अंतर्गत अपना व्यापार register करवाना होगा।

शॉप एक्ट registration या फिर जो भी जगह जहा आप अपने काम की शुरुआत करेंगे उस जगह के लिए आपको registration करवाना अनिवार्य है।

No objection certificate :

यदि आप किसी ऐसे क्षेत्र में यह व्यापार कर रहे है जो ग्रामीण क्षेत्र में हो तो आपको पहले registration करवाना है। इसके लिए आपको ग्राम पंचायत की तरफ से एक एनओसी प्राप्त करने की आवश्यकता होती है।

किसी भी इलाके का जहा आप business शुरू करना चाहते है उसका भी आपको registration कराना होता है और यह आपके व्यापार के लिए बहोत महत्वपूर्ण माना जाता है।

IEC Code :

दोस्तों, IEC कोड का मतलब import-export code होता है। इस कोड के नाम से ही आपको यह पता चल गया होगा की ये कोड कितना जरुरी होता है।

इस कोड की assurity आपको भारत सरकार के फॉरेन ट्रेड मंत्रालय से प्राप्त होगी। इसका आवेदन आपको इसी मंत्रालय से करना होता है। दोस्तों इस काम को आप किसी चार्टर्ड अकाउंटेंट की मदद से भी कर सकते है और इसके लिए आपको ज्यादा पैसे की जरूरत भी नहीं पड़ती है।

GST registration :

दोस्तों, आप ने GST का नाम तो सुना ही होगा यह हमारी भारत सरकार ने देश की अर्थव्यवस्था को ध्यान मैं रखते हुए शुरू किया था। हर प्रकार के व्यापार के लिए यह सिस्टम बहुत महत्वपूर्ण होता है। यह एक टैक्स सिस्टम है। 

इंपोर्ट एक्सपोर्ट के व्यापार के लिए आपको इस सिस्टम के अंतर्गत registration कराना अनिवार्य है। आप किसी भी सीए की मदद से इसका registration आसानी से करवा सकते है।

याद रखिए आपको इन सारे तहत रजिस्ट्रेशन करने के लिए बहुत सारे documents की जरूरत होगी साथ ही आपको अपनी पर्सनल डिटेल्स भी देने पड़ेगी यह पूरी तरह से आपको जिम्मेदारी है की आप इस सारे registration करवाए।

Custom clearing agent और freight forwarder का इस्तेमाल करे

दोस्तों, अब आप लोग सोच रहे होंगे की कस्टम क्लीयरिंग और फ्रेट फॉरवर्ड क्या होता है। तो सबसे पहले कस्टम क्लीयरिंग के बारे में जानते है। तो ये कुछ एजेंट्स या कंपनी होती है जो Foreign country के बीच इंपोर्ट और एक्सपोर्ट करने के लिए consignments साइन करवाता है।

अगर आप इंपोर्ट और एक्सपोर्ट का बिजनेस कर रहे तो पूरा काम अच्छे से करने के लिए आपको कही सारी जगहों पर तकलीफ होगी। आप फॉरेन ट्रेड में इतना develop नहीं कर सकेंगे इसलिए आपको कस्टम क्लीयरिंग एजेंट्स रखने है।

Freight forwarder भी कुछ इसी तरह के लोग होते है यानी एक कंपनी या एजेंसी होती है जो इंपोर्ट एक्सपोर्ट करने के लिए काम करती है। आपका कोई भी माल जो रेलगाड़ी या जहाज से आ जा रहा है उसे आगे बढ़ाने का काम यह करते है। उनका मुख्य काम किसी भी तरह के इंपोर्ट एक्सपोर्ट पर ध्यान रखना है और उसका सम्पूर्ण विवरण करना है।

Import और Export का बिजनेस शुरू करने के लिए जरुरी बातें

1. आपको हमेशा किसी भी ट्रेड के लिए अच्छे सप्लायर्स ढूंढने है, जिनके साथ आप अच्छा रिलेशन कायम कर सके।

2. आपको फॉरेन ट्रांजेक्शन को रिसीव करने के लिए अपने बैंक अकाउंट को अपडेट करना होगा यानी आपको Swift code की जरूरत होगी।

3. सप्लायर को ऑर्डर देते समय अपनी कंपनी के नाम को इश्यू करवाना न भूलें।

4. शिपिंग के लिए आपको हमेशा थर्ड पार्टी का सहारा लेना है क्योंकि यह आपके लिए बहुत फायदेमंद होगा और साथ ही थर्ड पार्टी को काम करने में कहीं सारे कॉन्टेक्ट्स होते है।

दोस्तों, अगर आपने सभी चीजों को अच्छे से फॉलो किया और सारे Registration के प्रोसेस को फॉलो कर लिया तो आपको इंपोर्ट एक्सपोर्ट का business करने के लिए कुछ परेशानी नहीं होगी।

Also Read:

Business करना कैसे सीखे | बेहतरीन तरीके से कमाई करे

2 से 5 लाख मे कोनसा बिजनेस करे

[10+ New] ज्यादा पैसे कमाने वाला बिजनेस

Conclusion

दोस्तों, अब आप भी Import export का business करके अच्छे पैसे कमा सकते है। अगर आपको हमारा ये आर्टिकल import export ka business kaise kare अच्छा लगा हो, तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर जरुर करे।

Thank You ! 

join telegram 10earnmoney
Click to join Telegram Channel